पंजाब कैबिनेट द्वारा 152.56 करोड़ रुपए के अस्पताल के सामान और उपभोज्य वस्तुएँ खरीदने के कार्य को मंज़ूरी |

चंडीगढ़ पंजाब

चंडीगढ़, 13 मई: ( न्यूज़ हंट )
राज्य में बढ़ते कोविड संकट से प्रभावशाली ढग़ से निपटने के लिए पंजाब कैबिनेट ने गुरूवार को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान और पुलिस विभाग द्वारा 152.56 करोड़ रुपए के अस्पताल के सामान और उपभोज्य वस्तुओं की खरीद के कार्य को मंज़ूरी दी।
स्वास्थ्य विभाग में मौजूदा समय में खाली पड़े रेगूलर पदों पर 250 एम.बी.बी.एस. मैडीकल अफसरों की भर्ती पंजाब लोक सेवा आयोग (पी.पी.एस.सी.) के दायरे में से निकाल कर बाबा फऱीद यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ सायंसज़, फरीदकोट के द्वारा करने को भी हरी झंडी दे दी। इनमें से 192 मैडीकल अफसरों को आज नियुक्ति पत्र भी सौंप दिए गए। स्वास्थ्य विभाग में मैडीकल अफसरों (एम.बी.बी.एस.) के यह 250 पद पहली अक्तूबर 2020 से 30 अप्रैल 2021 तक तरक्कियों/सेवामुक्ति/इस्तीफों के कारण खाली पड़े थे।
इन फ़ैसलों का ऐलान आज दोपहर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की अध्यक्षता अधीन हुई पंजाब मंत्रालय की मीटिंग के बाद सरकारी प्रवक्ता द्वारा किया गया। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि जब लोगों की जानें बचाने का मसला हो तो फंड की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।
प्रवक्ता ने बताया कि खरीद का फ़ैसला स्वास्थ्य क्षेत्र रिस्पांस कमेटी की सिफारशों के आधार पर किया गया। यह समिति 28 मार्च 2020 को राज्य सरकार द्वारा जारी नोटिफिकेशन के द्वारा पहले अतिरिक्त मुख्य सचिव प्रशासनिक सुधार की अध्यक्षता अधीन बनाई गई थी और फिर स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा सलाहकार डॉ. के.के. तलवाड़ को इस कमेटी का चेयरमैन बना दिया था। कमेटी को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के लिए निजी रक्षा उपकरण, सामान और बुनियादी ढांचा की सभी ज़रूरतों का मुल्यांकन और समीक्षा करने के लिए अधिकृत किया गया था।
सिफारशों के आधार पर तीनों ही विभागों ने निटराईल दस्ताने, पल्स ऑक्सीमीटर, सर्जीकल दस्ताने, रैमडेसीविर और टोसीलीज़ूमैब टीके, पी.पी.ई. किटें, एन-95 मास्क, ट्रिपल लेयर मास्क, रैपिड ऐटीजन किटों, वी.टी.एम. किटों, कोविड केयर किटों, ऑक्सीजन सिलंडर, दवाएँ, उपकरण, हैंड सैनीटाइजऱ, ट्रू नाट किटों और अस्पताल में अन्य उपभोज्य वस्तुएँ खरीदी हैं।
यह फ़ैसले बढ़ते कोविड मामलों के मद्देनजऱ लिए गए हैं। मौजूदा समय में एक दिन में औसतन 9000 से अधिक केस आ रहे हैं।
कैबिनेट को जानकारी देते हुए स्वास्थ्य सचिव हुसन लाल ने कहा कि सरकारी और निजी अस्पतालों में स्तर 2 और स्तर 3 के बेड की सामथ्र्य बढ़ाकर इस महीने के अंत तक 2000 तक करने के लिए राज्य सरकार की योजना के हिस्से के तौर पर मोहाली और बठिंडा (100-100 बेड की सामथ्र्य वाले) में अस्थायी अस्पताल बनाने पर काम चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *