स्कूल शिक्षा के क्षेत्र में देश का नंबर एक राज्य बनने पर शैक्षणिक क्षेत्र में ख़ुशी की लहर |

पठानकोट
पठानकोट,  9 जून  ( न्यूज़ हंट ): केंद्र सरकार की तरफ से स्कूल शिक्षा के क्षेत्र में की गई ताजा-तरीन दर्जाबंदी  (परफॉरमेंस ग्रेडिंग इंडैक्स) के अंतर्गत देश भर में से पंजाब के पहला स्थान हासिल करने के साथ शैक्षणिक क्षेत्रों में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है। इस बड़ी प्राप्ति के साथ राज्य के स्कूल शिक्षा विभाग के साथ जुड़ा हर शख्स गौरवशाली महसूस करने लगा है। इस संबंधी जिला शिक्षा अफसर (सै.शि) जसवंत सिंह और उप जिला शिक्षा अफ़सर सेकंडरी राजेश्वर सलारीया का कहना है कि पंजाब सरकार की सरप्रस्ती में स्कूल शिक्षा विभाग पंजाब की तरफ से पिछले कुछ सालों से जो बड़े उपराले किये जा रहे थे, उन की वजह से पंजाब देश भर में से पहले स्थान पर आया है। इस प्राप्ति ने विभाग में नया उत्साह भर दिया है। जिला शिक्षा अफसर (ऐली.शि) बलदेव राज का कहना है कि शिक्षा मंत्री विजय इंद्र सिंगला के नेतृत्व में विभाग के उच्च आधिकारियों की योजनाबंदी, स्कूल मुखियों के बढ़िया नेतृत्व और अध्यापकों की सख़्त मेहनत की बदौलत पंजाब को यह राष्ट्रीय स्तर की प्राप्ति हुई है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से पिछले समय दौरान राज्य के स्कूली ढांचे में आए बदलाव पर मोहर लगा दी गई है। उन्होंने कहा कि वह इस ऐतिहासिक प्राप्ति का हिस्सा बनने पर अपने आपको गौरवशाली महसूस करते हैं।
पंजाब के अव्वल नंबर स्कूल का ख़िताब विजेता सरकारी माध्यमिक स्कूल जसवाली की इंचार्ज किरण बाला, सरकारी माध्यमिक स्कूल सिम्बली गुज्जरा के इंचार्ज सुशील कुमार, सरकारी हाई स्कूल थरियाल की हैडमिस्टरेस सुमन बाला और सरकारी सीनियर सेकंडरी स्कूल दतियाल फ़िरोज़ा के प्रिंसिपल कम बीएनओ बम्याल रमेश कुमार का कहना है कि सचिव स्कूल शिक्षा कृष्ण कुमार की देख -रेख में पंजाब के स्कूली ढांचे को हर पक्ष से समय के हम उम्र का बनाने के लिए किये गए उपरालों के साथ पंजाब का शैक्षणिक क्षेत्र में सिर गर्व से ऊंचा हुआ है और सरकारी स्कूलों के अध्यापकों, अभिभावकों और विद्यार्थियों में राज्य का शैक्षणिक क्षेत्र में देश का अव्वल नंबर राज्य बनने के साथ उनमें पहले से ज्यादा जोश पैदा हो गया है।
जिला कोआरडीनेटर मीडिया सेल बलकार अत्तरी का कहना है कि अध्यापक वर्ग की मेहनत के साथ पंजाब के देश भर में से नंबर एक बनने पर जो ख़ुशी हुई है उसे ब्यान नहीं किया जा सकता। यह शिक्षा विभाग के साथ जुड़े हर शख्स के लिए बड़ा पुरुस्कार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *