परगट सिंह ने खेला विजयी शॉट, पंजाब को देश की खेल नर्सरी बनाने का किया ऐलान

चंडीगढ़ जालंधर पंजाब ब्रेकिंग न्यूज़

चंडीगढ़/जालंधर, 23 अक्तूबर (न्यूज़ हंट)- हॉकी ओलम्पियन और भारत को दो बार ओलम्पिक्स हॉकी में नेतृत्व देने वाले पंजाब के खेल मंत्री परगट सिंह ने डी.ए.वी यूनीवर्सिटी में क्रिकेट का विजयी शॉट खेलकर पंजाब को देश की खेल नर्सरी बनाने संबंधी रोड मैप की घोषणा की। डीएवी यूनीवर्सिटी में विद्यार्थियों के साथ क्रिकेट खेलते हुए उन्होंने कहा कि दूर दूराज के ग्रामीण क्षेत्रों में खेल प्रतिभाओं की खोज करने, उनका पोषण करने और उनको सरकारी और निरंतर कॉर्पाेरेट सहायता के साथ अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों में शामिल करने की तत्काल ज़रूरत है।

परगट सिंह, जोकि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों और बहु-राष्ट्रीय कंपनियों में रखे गए विद्यार्थियों को सम्मानित करने के लिए यूनिवर्सिटी के दौरे पर आए थे, सीधे यूनीवर्सिटी के खेल मैदान में गए और चल रहे क्रिकेट मैच को देखा और विद्यार्थियों के साथ क्रिकेट खेला। उन्हांने खिलाड़ियों और खेल विभाग के फेकल्टी के साथ भी बातचीत की।

बाद में विद्यार्थियों को संबोधन करते हुए श्री परगट सिंह ने कहा कि शिक्षा और खेल के क्षेत्र अभिन्न हैं और इसकेे पुनरोद्धार की ज़रूरत है। पंजाब के उच्च शिक्षा, स्कूल शिक्षा, खेल और युवक सेवाओं और प्रवासी भारतीय मामले बरे मंत्री परगट सिंह ने कहा कि डीएवी यूनिवर्सिटी ने खेलों के उत्थान और शिक्षा के मानक को कायम रखने में अहम भूमिका निभाई है।

कैबिनेट मंत्री और पूर्व हॉकी कप्तान का यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. पुनम सूरी द्वारा यूनिवर्सिटी के आदरणीयों की तरफ से कैंपस में स्वागत किया गया। यूनिवर्सिटी के इन अधिकारियों में उप कुलपति डॉ. जसबीर ऋषी, कार्यकारी निदेशक श्री राजन गुप्ता, रजिस्टरार डिआर केएन कौल, डीन अकादमिक डॉ. आर के सेठ और डिप्टी डायरैक्टर खेल, डॉ. यशबीर सिंह शामिल थे।

यूनिवर्सिटी अधिकारियों के साथ बातचीत करते हुए परगट सिंह ने कहा कि उनको यह जानकर खुशी हुई है कि डीएवी यूनिवर्सिटी पाठ्यक्रम तैयार करते समय उद्योग की ज़रूरतों को ध्यान में रख रही है। मंत्री ने कहा कि यह उनकी बेहतर प्लेसमेंट का मार्ग प्रशस्त करता है।

उन्होंने कहा कि उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में मानव संसाधन और बुनियादी ढांचे में भारी निवेश करने का प्रस्ताव रखा है। नौजवानों को सेहतमंद और मज़बूत बनाने की आवश्यकता पर ज़ोर देते हुए श्री परगट सिंह ने कहा कि लड़कियों को पौष्टिक आहार और सुविधाएं मिलनी चाहिएं।

यूनिवर्सिटी के नीचे लिखे विद्यार्थियों को मंत्री द्वारा सम्मानित किया गयाः

जूडोः संयोगिता सिंह (रजत पदक विजेता, राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप-2018; स्वर्ण पदक विजेता, खेलो इंडिया-2018, कांस्य पदक विजेता, कैडेट और जूनियर राष्ट्रीय-2019); प्राची पंवार (एसजीएफआई राष्ट्रीय कांस्य पदक विजेता 2018-19); यशवीर सिंह (राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप रजत, खेलो इंडिया गोल्ड 2019); विक्रम सिंह (खेलो इंडिया सिलवर मैडल 2019)

घुड़सवारः आकाश (स्वर्ण पदक विजेता, जूनियर राष्ट्रीय घुड़सवार चैंपियनशिप 2020-2021 और जूनियर राष्ट्रीय घुड़सवार चैंपियनशिप 2019-2020 में स्वर्ण पदक विजेता)

ताइक्वांडोः सैयद ताहा (ओलम्पिक दर्जा प्राप्त अंतरराष्ट्रीय ताइक्वांडो खिलाड़ी 2019); तमन्ना धीमान (ताइक्वांडो 2019 में खुली अंतरराष्ट्रीय भागीदारी, ब्लैक डैन 1 धारक, 2021 के ग्रेड फ़ाईनल टेलेंट शो ताइक्वांडो की विजेता)

पावर लिफ्टिंगः रोशनी (राष्ट्रीय स्वर्ण 2021); आदेश (राष्ट्रीय रजत 2019 ; रोहित (राष्ट्रीय कांस्य 2019); अक्षय (राष्ट्रीय कांस्य 2019)

खो-खोः नवीन कुमार (राष्ट्रीय स्वर्ण 2019); अरुण (राष्ट्रीय कांस्य पदक हैपी (जूनियर नेशनल गोल्ड 2015 गुजरात, ऑल इंडिया यूनीवर्सिटी गोल्ड 2015 उड़ीसा, ऑल इंडिया यूनीवर्सिटी सिलवर 2014 जीएनडीयू, जूनियर नेशनल गोल्ड 2012); हरप्रीत कौर (जूनियर एशियन चैंपियनशिप, हाँगकाँग 2014 में तीसरी, वर्ल्ड यूनिवर्सिटी साउथ कोरिया 2015 में भागीदारी ।

प्लेसमेंट के लिए सम्मानित किये गए विद्यार्थीः

माधव शर्मा, अयान चावला, भूपेंद्र सिंह, गुरसुमित, राहुल कुमार, अंकुर धीमान, मीशा, पूजा, विशाल मरवाहा, तरंग, सचिन खन्ना, सुशील वासन, अंकुश कोचर, रोहित, शिवानी, अक्षय, ब्रिजेश सौंधी, कनव, अर्जुन महाजन, सुचित्रा वोहरा, गुरशरण महे, शुभम मेहता, अमन पटियाल, हरप्रीत कौर, मोहित शर्मा, अमृतरूप कौर और देवाशीष धीमान।

Leave a Reply

Your email address will not be published.