विधान सभा चुनाव निष्पक्ष और शांतमयी ढंग के साथ करवाने के लिए पैरा मिलटरी फ़ोर्स की 54 कंपनियाँ तैनात की जाएंगी: डिप्टी कमिश्नर

Elections2022 जालंधर देश पंजाब ब्रेकिंग न्यूज़

जालंधर, 18 फरवरी (न्यूज़ हंट)- डिप्टी कमिशनर -कम -ज़िला चुनाव अधिकारी घनश्याम थोरी ने आज बताया कि ज़िले में आज़ाद, निष्पक्ष, पारदर्शी और शांतिपूर्वक विधान सभा मतदान करवाने के लिए केंद्रीय पैरा मिलटरी फ़ोर्स की 54 कंपनियाँ तैनात की जाएंगी।

डिप्टी कमिशनर घनश्याम थोरी ने बताया कि सभी 9विधान सभा हलकों में केंद्रीय हथियारबंद पुलिस बल (सी.ए.पी.ऐफ.) की कुल 54 कंपनियाँ को तैनात करने के लिए विस्थारित पुलिस और सुरक्षा प्रबंध तैयार किये गए है । उन्होंने बताया कि इन में से 19 कंपनियाँ शहरी क्षेत्रों में और 35 कंपनियाँ देहाती क्षेत्रों में तैनात की जाएंगी।

डिप्टी कमिशनर ने आगे बताया कि इनके इलावा इलावा 20 फरवरी 2022 को केंद्रीय बलों के साथ पंजाब पुलिस के जवान और पंजाब होम गारडज़ भी तैनात किये जाएंगे।उन्होंने कहा कि विधान सभा मतदान शांतिपूर्वक और निष्पक्ष ढंग के साथ पूरा करने के लिए जालंधर प्रशासन की तरफ से सुरक्षा के पुख़्ता इंतज़ाम किये गए हैं।

घनश्याम थोरी ने बताया कि कमिशनरेट और जालंधर देहाती पुलिस दोनों के अधिकार क्षेत्र में कुल 1975 पोलिंग बूथ आते है और नाजुक और संवेदनशील बूथों के लिए विशेष तैनाती योजना तैयार की गई है।

उन्होंने कहा कि जिले में अलग -अलग स्थानों पर सी.ए.पी.एफ. और पंजाब पुलिस के जवानों की सांझी तैनाती के साथ क्षेत्र की 24 घंटे सुरक्षा को और मज़बूत किया गया है और इसके इलावा सी.ए.पी.एफ. की गशत पार्टियाँ और पंजाब पुलिस के जवानों को इलाके में गशत करने के लिए तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि संभावी गड़बड़ी करने वालों विरुद्ध पहले ही रोक कार्यवाही की जा चुकी है।

डिप्टी कमिशनर ने और ज्यादा जानकारी देते हुए बताया कि जालंधर देहाती पुलिस के अधिकार क्षेत्र में आते क्षेत्रों में 701 आम और 130 नाजुक पोलिंग स्थान है, जिन में 352 ग़ैर -गज़टिड अधिकारी (एन.जी.ओ.), 481 हैड कांस्टेबल, 387 पंजाब होम गारडज़ के जवान तैनात किये जाएंगे। इसी तरह शहरी स्थानों के सभी 325 नाजुक और साधारण पोलिंग स्थानों के लिए केंद्रीय बलों के साथ पंजाब पुलिस के 2400 के करीब जवान तैनात किये जाएंगे।

घनश्याम थोरी ने आगे बताया कि फोर्स की तैनाती के इलावा बूथ स्तर पर पूरी चुनाव प्रक्रिया पर नज़र रखने के लिए माईक्रो अबज़रवर भी नियुक्त किये गए हैं। इसके साथ ही इन स्थानों पर वैबकास्टिंग और सी.सी.टी.वी. के द्वारा निगरानी को भी यकीनी बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इन सभी कदमों का मुख्य उदेशय यह यकीनी बनाना है कि लोग इस लोकतंत्रीय प्रक्रिया में बिना किसी डर या दबाव के भाग ले सकें।

विधान सभा मतदान को अमन -सुरक्षा के साथ पूरा करने की ज़िला प्रशासन की दृढ़ वचनबद्धता को दोहराते हुए उन्होंने कहा कि मतदान दौरान शांति भंग करने की कोशिश करन वाले किसी भी व्यक्ति के साथ कानून अनुसार सख़्ती के साथ निपटा जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि मतदान दौरान किसी को भी कानून को अपने हाथ में लेने की इजाज़त नहीं दी जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.