Punjab Police Encounter : 53 दिन बाद मूसेवाला की हत्या का हिसाब, सिंगर को गोलियों से छलनी करने वाले गैंगस्टरों का ऐसे हुआ अंत

Punjab

न्यूज हंट. अमृतसर : पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड (Sidhu Moosewala Murder Case) के शूटर्स के साथ पुलिस की मुठभेड़ खत्म हो गई है। पुलिस ने अमृतसर के ग्रामीण क्षेत्र में अटारी बॉर्डर (Attari Border) के पास चिचा भनका गांव में गैंगस्टर जगरूप सिंह रूपा और साथी मनप्रीत मन्नू कूसा को मार गिराया है। इस मुठभेड़ में चार अपराधी ढेर हुए हैं। हवेली में पुलिस की टीम दाखिल हो गई है। कई घंटों तक चले मुठभेड़ में 3 पुलिसकर्मी भी घायल हुए।
बताया जा रहा है कि पंजाब पुलिस के साथ यह मुठभेड़ जगरूप सिंह रूपा और मन्नू कोसा के वहां मौजूद होने की जानकारी होने के बाद आज बुधवार दिन में शुरू हुई जिसके बाद पुलिस ने पूरे इलाके को घेर लिया। मुठभेड़ में गैंगस्टर जगरूप सिंह रूपा और साथी मनप्रीत मन्नू कूसा समेत चार गैंगस्टर ढेर हो गए हैं जबकि इस दौरान 3 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। साथ में 2 स्थानीय लोगों के भी गोली लगने की खबर है।
इससे पहले महीने की शुरुआत में दिल्ली पुलिस ने खुलासा किया था कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या का एक मुख्य साजिशकर्ता वारदात से करीब एक महीने पहले ही देश से फरार हो गया था। इंटरपोल ने इससे पहले सतिंदरजीत सिंह उर्फ गोल्डी बराड़ के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था जिसने मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी ली थी।

कुछ दिन पहले वायरल हुआ था CCTV फुटेज
पुलिस ने बताया कि इनमें से मनप्रीत सिंह उर्फ ​​मन्नू कूसा और जगरूप सिंह रूपा नाम के दो गैंगस्टर मूसोवाला की हत्या करने वाले शूटर थे और हत्या के बाद से फरार चल रहे थे। 21 जून को मोगा जिले के समालसर में दोनों का बाइक चलाते हुए हाल ही में एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया था।

जग्गू भगनपुरिया गैंग से दोनों शूटर्स का ताल्लुक
इससे पहले, एंटी-गैंगस्टर टास्क फोर्स की ओर से इस मुठभेड़ की पुष्टि की गई थी। दोनों जग्गू भगनपुरिया गैंग से ताल्लुक रखते हैं। मूसेवाला हत्याकांड के लिए भगनपुरिया ने इन निशानेबाजों को लॉरेंस बिश्नोई को मुहैया कराया था। ये दोनों पिछले 52 दिनों से पुलिस को चकमा दे रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.